पश्चिम बंगाल के एग्जाम में कश्मीर को पाक अौर अरुणाचल को चीन का हिस्सा दिखाया

भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल सरकार पर एक बार फिर से निशाना साधा है। लेकिन इस बार मामला राजनीतिक नहीं बल्कि राज्य के स्कूल से संबंधित है।...

304 0
304 0

भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल सरकार पर एक बार फिर से निशाना साधा है। लेकिन इस बार मामला राजनीतिक नहीं बल्कि राज्य के स्कूल से संबंधित है। दरअसल पश्चिम बंगाल के एक माध्यमिक स्कूल के परीक्षा पत्र में भारत का नक्शा गलत बनाए जाने को लेकर भाजपा ने टीएमसी पर निशाना साधा है। बताया जाता है कि भाजपा ने आरोप लगाया है कि टीएमसी टीचर्स एसोसियेशन की ओर से जारी किए गए पेपर में कश्मीर को पाकिस्तान का जबकि अरुणाचल प्रदेश को चीन का हिस्सा दिखाया गया है।

राजू बनर्जी ने बताया गया कि यह गलत मैप जियोग्राफी के एग्जाम के दौरान बांटा गया। उन्होंने आगे कहा कि मैप के वॉटर मार्क में WBBSC लिखा है, जो वेस्ट बंगाल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन का है। राजू ने कहा, “मौजूदा सरकार से हमारा सवाल है कि क्या वह भारतीय जमीन पर पाकिस्तान और चीन के दावों से सहमत हैं?” उन्होंने टीएमसी की निंदा करते हुए कहा कि बंगाल में डेमोक्रेसी नाम की चीज नहीं है। राज्य में सिर्फ तृणमूल का सिस्टम चल रहा है।

बता दें कि यह परीक्षा पेपर राज्य के एक माध्यमिक विद्यालय के 10वीं क्लास का है। भाजपा का आरोप है कि वेस्ट बंगाल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन की तरफ से यह पेपर तैयार किया गया है। भाजपा नेता राहुल सिन्हा ने इस मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए कहा कि “क्या टीएमसी देश को बांटना चाहती है। यह सीमा पर कश्मीर और अरुणाचल की सुरक्षा के लिए तैनात सेनाओं का अपमान है। उन्होंने कहा कि टीएमसी को तुरंत इस त्रुटि के लिए माफी मांगनी चाहिए साथ ही शिक्षा मंत्री को पद से हटा देना चाहिए।”

उधर, बीजेपी के नेशनल सेक्रेटरी राहुल सिन्हा ने टीएमसी की निंदा की। उन्होंने कहा, “ये खुद देश को बांटना चाहते हैं।” उन्होंने इस मुद्दे पर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से जवाब मांगा है। सिन्हा ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि इसके पीछे कोई साजिश है। मामले की जांच की जानी चाहिए।

भाजपा के ही बंगाल के जनरल सेकेट्ररी राजू बनर्जी ने भी कहा कि “वह मानव संसाधन मंत्रालय को इस मुद्दे के बारे में लिखेंगे और कानूनी कार्रवाई की मांग करेंगे।” आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं जब किसी नक्शे को लेकर राज्य में बवाल हुआ है इससे पहले भी कई बार ऐसे ही मुद्दों पर राज्य सरकार निशाने पर आ चुकी है।

 

In this article