SC से दिल्ली-NCR के पटाखा कारोबारियों को राहत नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा बिक्री को लेकर दिल्ली के कारोबारियों को किसी भी तरह की राहत देने से इनकार कर दिया. साथ ही शीर्ष अदालत ने यह भी...

168 0
168 0

सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा बिक्री को लेकर दिल्ली के कारोबारियों को किसी भी तरह की राहत देने से इनकार कर दिया. साथ ही शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि दिल्ली-NCR में रात 11 बजे के बाद पटाखा जलाने की इजाजत नहीं होगी. वहीं, दूसरी ओर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में शाम साढ़े छह बजे से रात साढ़े नौ बजे तक ही पटाखा फोड़े जा सकेंगे.

जस्टिस एके सीकरी की अध्यक्षता वाली पीठ ने पटाखों की बिक्री से रोक हटाने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए पिछला आदेश बदलने से इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर व्यापारियों ने नौ अक्टूबर के आदेश में संशोधन की मांग की थी। इस मामले में पटाखा व्यापारियों ने बुधवार को अदालत से इस मामले में जल्द सुनवाई का अनुरोध किया था। उनका कहना था कि वे पटाखे खरीदने में काफी पूंजी लगा चुके हैं और यदि प्रतिबंध जारी रहा, तो उनको भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।

शीर्ष अदालत ने कहा कि हमको पता है कि यह पटाखा मुक्त दिवाली नहीं होगी, लेकिन हमने पर्यावरण को बचाने के लिए कोशिश की है. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि हमको पता है कि अब भी पटाखे की बिक्री जारी है. हमने मीडिया में देखा है. वहीं, आजतक से बातचीत के दौरान पटाखा कारोबारियों ने कहा कि हमने लाइसेंस लेने के बाद पटाखों में लाखों रुपये निवेश किए हैं और अब कोर्ट बिक्री की इजाजत देने से इनकार कर रहा है.

जस्टिस एके सिकरी की पीठ ने कहा कि हम देख रहे हैं कि लोगों ने इस मामले को सांप्रदायिक बनाने की कोशिश की है, इससे हम दुखी हैं। कोर्ट ने कहा कि लोग हमारे आदेश से दुखी है और वे अपनी भावनाएं व्यक्त कर रहे हैं, इसने कोई समस्या नहीं है। जस्टिस सिकरी ने कहा कि लोग जानते है मैं बहुत धार्मिक हूं। कोर्ट ने यह तब कहा जब कोर्ट को बताया गया कि नेताओं ने कुछ बयान दिए हैं। कोर्ट ने इस राजनीति मत बनाइए।

In this article