मुकुल रॉय ने छोड़ा ममता बनर्जी का साथ, तृणमूल कांग्रेस और राज्यसभा से इस्तीफा

तृणमूल कांग्रेस ने निलंबित नेता और सांसद मुकुल रॉयने आज पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया. साथ ही उन्होंने पार्टी के सांसद के पद से भी इस्तीफा देने...

54 0
54 0

तृणमूल कांग्रेस ने निलंबित नेता और सांसद मुकुल रॉयने आज पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया. साथ ही उन्होंने पार्टी के सांसद के पद से भी इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया. वे राज्यसभा सांसद हैं और दिल्ली में बुधवार को वह राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को इस्तीफा सौंप दिया. उन्होंने संवाददाता सम्मेलन कर कहा कि उन्होंने काफी दुख है कि वह पार्टी छोड़ रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि 17 दिसंबर 1997 को तृणमूल कांग्रेस के स्थापना पत्र  के दिए गए आवेदन में मैं पहला आदमी था जिसका साइन है. उन्होंने कहा कि उस समय यह पता नहीं था कि एक दिन ऐसा भी होगा.

गौरतलब है कि श्री रॉय को पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था। समझा जाता है कि इस घटना के विरोध में श्री रॉय ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। अटकलें लगाई जा रही है कि श्री रॉय तृणमूल कांग्रेस छोड़ने के बाद भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं। इस बीच श्री रॉय ने भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली से मुलाकात की है।

उल्लेखनीय है कि पार्टी के गठन के करीब 20 साल बाद आज उन्होंने ममता बनर्जी की पार्टी से नाता तोड़ लिया. पार्टी के लोगों का मानना है कि अगर रॉय बीजेपी से हाथ मिलाते हैं तब वह ममता बनर्जी के लिए काफी दिक्कतें पैदा कर सकते हैं. वह पार्टी के कई भीतरी राज जानते होंगे जिससे पार्टी को दिक्कत होना तय है.ममता बनर्जी के बेहद खास रहे 63 वर्षीय रॉय संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार में रेलमंत्री रह चुके हैं। तीन अप्रैल 2012 को वह राज्यसभा के लिए चुने गए थे।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से रॉय पार्टी से नाराज चल रहे हैं और उन्हें पार्टी ने निलंबित भी कर दिया है. उनके बीजेपी में जाने की खबरें मीडिया में लगातार आ रही हैं. पिछले कुछ दिनों में उन्होंने बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के साथ मुलाकात भी की है. उन्होंने अरुण जेटली और कैलाश विजयवर्गीय से मुलाकात की थी.

In this article