कई हस्तियों ने रोहिंग्या पर पीएम को लिखी चिट्ठी, कहा-वैश्विक ताकत की तरह खुद को करें पेश

रोहिंग्या शरणार्थी के मुद्दे पर देश की तमाम क्षेत्रों की मशहूर हस्तियों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा गया है. इस खत में...

58 0
rohingya

تصفح هذا الموقع रोहिंग्या शरणार्थी के मुद्दे पर देश की तमाम क्षेत्रों की मशहूर हस्तियों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा गया है. इस खत में केंद्र सरकार से म्यांमार में जारी हिंसा के बीच रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस उनके देश नहीं भेजने की अपील की गई है. इस खुले खत में म्यांमार में रोहिंग्या के खिलाफ हो रही हिंसा और अत्याचारों का हवाला देते हुए पीएम मोदी से अपील की गई कि उन्हें भारत में रहने दिया जाए.

شرح شراء اسهم

اقرأ هنا इस खत पर मशहूर वकील प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, सांसद शशि थरूर, पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम, ऐक्टिविस्ट तीस्ता शीतलवाड़, पत्रकार करन थापर, सागरिका घोष, अभिनेत्री स्वरा भास्कर समेत कुल 51 मशहूर हस्तियों ने हस्ताक्षर किए हैं.

اسعار الاسهم سوق دبي المالي

http://www.ac-brno.org/?pycka=%D8%A7%D8%B3%D8%B9%D8%A7%D8%B1-%D8%A7%D9%84%D8%B3%D9%88%D9%82-%D8%A7%D9%84%D8%B3%D8%B9%D9%88%D8%AF%D9%8A-%D8%A7%D9%84%D9%8A%D9%88%D9%85&5c0=6b बता दें कि भारत सरकार का रोहिंग्या मुसलमानों का इंटर सर्विसेज (ISI) और इस्लामिक स्टेट (IS) के साथ संबंध बताए जाने और देश के लिए खतरा कहे जाने पर एक रोहिंग्या शराणार्थी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है। हलफनामे में रोहिंग्या शरणार्थियों ने कहा कि उनके साथ भी तिब्बतियों और श्रीलंका के शरणार्थियों की तरह ही बर्ताव किया जाए। उन्होंने कहा है कि रोहिंग्या का आईएसआई और इस्लामी स्टेट जैसे किसी भी आतंकी संगठन से कोई संपर्क नहीं है। भारत में ऐसा कोई रोहिंग्या नहीं है जो राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल है।

بوب إلى هذا الموقع

http://gl5.org/?prikolno=%D8%A7%D9%84%D8%AE%D9%8A%D8%A7%D8%B1%D8%A7%D8%AA-%D8%A7%D9%84%D8%AB%D9%86%D8%A7%D8%A6%D9%8A%D8%A9-%D8%A5%D8%B4%D8%A7%D8%B1%D8%A7%D8%AA-%D8%A7%D9%84%D9%85%D9%81%D9%83%D8%B1%D8%A9-%D8%A7%D9%84%D8%A7%D9%82%D8%AA%D8%B5%D8%A7%D8%AF%D9%8A%D8%A9&ee0=c6 इसमें यह भी कहा गया कि बेशक रोहिंग्या मुसलमानों के पास सुरक्षित और गरिमा के साथ अपने घर लौटने का अधिकार है लेकिन वर्तमान हालात में उनका देश लौटना बिल्कुल सही नहीं होगा. म्यांमार में जब तक हत्याओं, लूटपाट और हिंसा का दौर जारी है तब तक अंतरराष्ट्रीय कानून उन्हें भारत में रहने का अधिकार देता है. कई सिविल सोसायटी के सदस्य और यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के उच्चायुक्त भी भारत से रोहिंग्या शरणार्थियों को बलपूर्वक उनके देश वापस नहीं भेजने की अपील की है.

http://wilsonrelocation.com/?q=%D8%AA%D8%B9%D8%B1%D9%8A%D9%81-%D8%A7%D9%84%D8%B1%D8%A7%D9%81%D8%B9%D8%A9-%D8%A7%D9%84%D9%85%D8%A7%D9%84%D9%8A%D8%A9
In this article