एग्जिट पोल: कमल खिलेगा यूपी निकाय चुनाव में, 16 में से 15 शहरों पर भाजपा लहराएगी परचम

मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ अपनी पहली परीक्षा में पास होते दिख रहे हैं. नोटबंदी और जीएसटी जैसे मुद्दों पर बीजेपी को घेरने वाली कोई भी पार्टी...

828 0
828 0

मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ अपनी पहली परीक्षा में पास होते दिख रहे हैं. नोटबंदी और जीएसटी जैसे मुद्दों पर बीजेपी को घेरने वाली कोई भी पार्टी यूपी निकाय चुनाव में बीजेपी के सामने कोई भी पार्टी टिक नहीं पाई है. यूपी में योगी की पहली परीक्षा के नतीजे शुक्रवार को आएंगे लेकिन उससे पहले एबीपी न्यूज और सी वोटर के सर्वे के आंकड़े बताते हैं कि यूपी में बीजेपी की लहर बरकरार है. एग्जिट पोल में बीजेपी ने वाराणसी, अयोध्या, मेरठ, मुरादाबाद और गोरखपुर सहित 16 में से 15 शहरों में मेयर पद पर कब्जा जमा लिया है.

फिरोजाबाद में सपा का मेयर प्रत्याशी जीत सकता है। भाजपा को सभी नगर निगमों में औसतन 42.80 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। यह 2012 के 37 प्रतिशत से 5.80 फीसदी ज्यादा है। सर्वाधिक 50 प्रतिशत मत आगरा और सबसे कम 25 प्रतिशत फिरोजाबाद में मिलने का संभावना है। सीएम योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर में 45.6 और पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र के वाराणसी नगर निगम में 44.4 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है।

मेरठ नगर निगम में कुल 90 वार्ड हैं. इस सीट पर भी बीजेपी कब्जा करती नज़र आ रही है.  मेरठ में बीजेपी-47 %, सपा को 16%, BS को 24%, कांग्रेस को 9% और अन्य को 4% वोट मिलने का अनुमान है. ये शहर क्रिकेट का बल्ला बनाने के लिए जाना जाता है. यहां विधानसभा की 3 सीटें हैं. दो पर बीजेपी और एक सीट पर एसपी का कब्जा है.सहारनपुर नगर निगम: इस सीट  पर भी बीजेपी का ही मेयर कब्जा जमाता दिख रहा है. सहारनपुर में बीजेपी को 37 %, सपा को 21%, BSP को 27%, कांग्रेस को 13 % और अन्य को 30% वोट मिलने का अनुमान है.

इलाहाबाद नगर निगम: इस सीट के मेयर पद पर भी बीजेपी कब्जा जमा रही है. इस बार अभिलाषा गुप्ता बीजेपी की उम्मीदवार हैं. अभिलाषा गुप्ता 2012 में बीएसपी समर्थित अभिलाषा गुप्ता मेयर बनीं.  इलाहाबाद में विधानसभा की 3 सीटें नगर निगम क्षेत्र में आती हैं. तीनों विधानसभा सीट पर बीजेपी का कब्जा है. अयोध्या नगर निगम: मेयर सीट पर बीजेपी की जीत होने जा रही है. यहां बीजेपी को 48%, सपा को 32%, बीएसपी को 17%, कांग्रेस को 2% और अन्य एक फीसदी वोट मिलता दिख रहा है. बता दें कि अयोध्या में नगर निगम में कुल 60 वार्ड हैं. अयोध्या की देश की धार्मिक नगरी के तौर पर पहचान है. अयोध्या विधानसभा सीट पर बीजेपी का कब्जा है.

In this article