सुस्त पड़ी आर्थिक गतिविधियों का पड़ेगा आगामी बजट की तैयारियों पर असर

सरकार की ओर से लिए गए नोटबंदी के फैसले से आम बजट 2017 की तैयारियां प्रभावित हो रही हैं। न्यूज एजेंसी रायटर्स की ओर से प्रभाशित खबर के...

112 0
112 0

सरकार की ओर से लिए गए नोटबंदी के फैसले से आम बजट 2017 की तैयारियां प्रभावित हो रही हैं। न्यूज एजेंसी रायटर्स की ओर से प्रभाशित खबर के मुताबिक दो सरकारी सूत्रों के मुताबिक नोटबंदी का नकारात्मक असर ग्रोथ, सरकार के रेवेन्यु और संपत्तियों पर पड़ा है, जिसका असर आगामी बजट की तैयारियां पर भी पड़ रहा है। गौरतलब है कि सरकार ने 8 नवंबर को कालेधन के खिलाफ बड़ी कार्रवाही करते हुए 1000 और 500 के नोट को अवैध कर दिया था।

अधिकारियों को डर है कि नोटबंदी का असर अपेक्षित समय से ज्यादा लंबे समय तक रह सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि देशभर में लाखों लोग पैसों के लिए बैंक और एटीएम की लाइनों में लगे हैं और कंपनियों को रोजाना मजदूरी देने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

अधिकारियों को डर है कि यह कदम आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती को उम्मीद के हिसाब से कुछ ज्यादा ही लंबा खींच सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि लाखों लोगों अब भी नकदी के लिए बैंकों एवं एटीएम के बाहर कतार लगाए हुए हैं और कंपनियां मजदूरी और आपूर्तिकर्ताओं के भुगतान के लिए संघर्ष कर रही हैं।

In this article