خيار ثنائي الروبوت optionweb वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राजनीतिक दलों को कर छूट पर संदेह की स्थिति को दूर करते हुए शनिवार को कहा कि वे 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों में चंदा स्वीकार नहीं कर सकते क्योंकि उन्हें पिछले महीने ही अस्वीकार कर दिया गया था। उन्होंने स्पष्ट किया कि कोई भी नई छूट नहीं दी गई है।

http://woldswaylavender.co.uk/?antaliiste=%D8%A7%D9%81%D8%B6%D9%84-%D8%A7%D9%84%D8%A7%D8%B3%D9%87%D9%85-%D9%84%D9%84%D8%B4%D8%B1%D8%A7%D8%A1&63c=67
सरकार ने कहा है कि राजनीतिक दलों को नोटबंदी और 15 दिसंबर को लागू आयकर संशोधन अधिनियम 2016 के बाद कोई छूट हासिल नहीं है। ये दल अब पुराने 500 और 1000 के नोट स्वीकार नहीं कर सकते क्योंकि अब ये कानूनी करेंसी नहीं रह गए हैं।
वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को एक बयान में कहा कि आयकर अधिनियम 1961 की धारा 13 के तहत राजनीतिक  दलों को अपने ऑडिट किए हुए बही-खातों, आय और व्यय ब्योरा और बैलेंस शीट पेश करनी होती है।
In this article