जिम्बाब्वे में तख्तापलट के बीच सेना का बयान-सरकारी चैनल पर सैनिकों का कब्जा नहीं

जिम्बाब्वे में तख्तापलट की आशंका के बीच सेना के प्रवक्‍ता का बयान आया है कि नेशनल ब्रॉडकास्टर पर ये किसी तरह का सैन्‍य अधिग्रहण नहीं है। खबर आ...

146 0
146 0

जिम्बाब्वे में तख्तापलट की आशंका के बीच सेना के प्रवक्‍ता का बयान आया है कि नेशनल ब्रॉडकास्टर पर ये किसी तरह का सैन्‍य अधिग्रहण नहीं है। खबर आ रही हैं कि जिम्बाब्वे में सेना और सरकार के बीच बढ़ते राजनीतिक तनाव के दौरान सैनिकों ने राजधानी हरारे में मौजूद नेशनल ब्रॉडकास्टर्स जेडबीसी के दफ्तर को अपने कब्जे में कर लिया है। राजधानी हरारे में मौजूद नेशनल ब्रॉडकास्‍टर्स के दो कर्मचारियों के मुताबिक, बुधवार देर रात सेना ने पूरे ऑफिस को अपने कब्‍जे में ले लिया। खबरें ये भी आ रही हैं कि राष्‍ट्रपति भवन को भी सेना ने अपने कब्‍जे में ले लिया है। राजधानी की सड़कों पर आर्मी के टैंक और वाहनों ने रास्‍तों को रोक दिया है।

राष्ट्रपति और उनका परिवार सही सलामत हैं और उनकी सुरक्षा की गारंटी है। जनरल ने कहा, हम केवल उनके आस-पास उन अपराधियों को निशाना बना रहे हैं, जो अपराध कर रहे हैं. हम उम्मीद करते हैं कि जैसे ही हमारा अभियान पूरा होगा, हालात पुन: सामान्य हो जाएंगे। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि बुधवार तड़के बोरोडाले उपनगर में मुगाबे के निजी निवास के निकट लंबे समय तक गोलीबारी हुई। यह गोलीबारी ऐसे समय में हुई है जब मुगाबे की जेडएएनयू-पीएफ पार्टी ने सेना प्रमुख जनरल कांन्सटैनटिनो चिवेंगा पर राजद्रोह संबंधी आचरण का मंगलवार को आरोप लगाया था।

हालांकि जिम्‍बाब्‍वे की सेना ने बयान जारी कर कहा है, नेशनल ब्रॉडकास्‍टर्स के ऑफिस पर ये किसी भी तरह का सैन्‍य अधिग्रहण नहीं है। साथ ही कहा गया है कि मिशन पूरा हो गया है और जल्‍द ही स्थिति सामान्‍य हो जाएगी।

पिछले कुछ समय से जिम्बाब्वे में सेना और सरकार के बीच राजनीतिक तनाव बढ़ता जा रहा है। खबरों के मुताबिक, उधर सेना ने नेशनल ब्रॉडकास्टर्स के दफ्तर को अपने कब्जे में लिया, इधर राजधानी की सड़कों पर तोप के गोले दागने और भारी गोलीबारी की आवाजें सुनी गई हैं। इस घटनाक्रम पर देश के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे का अभी तक कोई बयान नहीं आया है।

In this article