ललमटिया में कोयला खदान हादसा: धंसे मलबे से निकाले गए चार शव, राहत कार्य जारी

झारखंड के गोड्डा जिले के ललमटिया इलाके के भोड़ाय गांव में गुरुवार देर रात कोयले की खदान के धंसने से 40 से 50 मजदूरों के फंसे होने की...

257 0
257 0

झारखंड के गोड्डा जिले के ललमटिया इलाके के भोड़ाय गांव में गुरुवार देर रात कोयले की खदान के धंसने से 40 से 50 मजदूरों के फंसे होने की आशंका है। राहत एवं बचाव कार्य में अबतक चार शव बरामद हुए हैं जबकि एक अन्य शव दिख रहा है। इसकी पुष्टि ईस्टर्न और वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के सीएमडी राजीव रंजन मिश्र ने की है। इस हादसे में कुछ मशीनें भी फंस गई हैं।
एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच राहत एवं बचाव कार्य में लगी हुई है। हादसे के वक्त सीआईएसफ की एक टुकड़ी भी मौके पर मौजूद थी, हालांकि उसे जरा भी नुकसान नहीं पहुंचा है। यह खदान ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के अंतर्गत आती है। सीआइएसएफ के अधिकारियों का कहना है कि ड्यूटी पर तैनात संतरी सुरक्षित हैं। ईस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड मुख्यालय से सीआइएसएफ के दो इंस्पेक्टर और 21 कॉन्सटेबल को मौके पर रवाना कर दिया गया है।

फिलहाल, इसमें दो लोगों को बचाया जा चुका है। घायलों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है। शुरुआती मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कोहरे की वजह से राहत एवं बचाव कार्य रात में शुरू नहीं हो सका। सवेरे होते ही पटना से NDRF की टीम मौके पर पहुंची और वह खदान में फंसे लोगों को बाहर निकालने की पूरी कोशिश कर रही है। खदान के धंसने की वजह से आसपास लगे बिजली के खंभे भी गिर गए और बिजली चली गई। इस वजह से मौके पर अंधेरा छा गया। इस कारण से राहत कार्य में काफी तकलीफें आईं।

इस पूरे मामले पर झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से रेस्क्यू आॅपरेशन के संबंध में जानकारी भी ली है। उन्होंने इस घटना पर खेद व्यक्त किया है। उन्होंने बचाव और रात कार्य को तेज करने का भी आदेश दिया है।

In this article