मिसाल से कम मंजूर नहीं ‘दंगल’ (4.5 स्‍टार)

रमुख कलाकार: आमिर खान, साक्षी तंवर, फातिमा सना शेख और राजकुमार राव निर्देशक: नितेश तिवारी संगीत निर्देशक: प्रीतम स्टार: साढ़े चार स्टार ‘दंगल’ साल की बहुप्रतीक्षित बायोपिक फिल्म...

237 0
237 0

रमुख कलाकार: आमिर खान, साक्षी तंवर, फातिमा सना शेख और राजकुमार राव
निर्देशक: नितेश तिवारी
संगीत निर्देशक: प्रीतम
स्टार: साढ़े चार स्टार

‘दंगल’ साल की बहुप्रतीक्षित बायोपिक फिल्म अनुमानित थी। यह उस कसौटी पर तमाम कलाकारों, फिल्मकार और फिल्म से जुड़े हर विभाग के लोगों के अथक प्रयास से पूर्णत: खड़ी उतरी। यह मनोरंजन और मैसेज का मारक मिश्रण बन उभर और निखर कर सभी के सामने आई। यह सफलता और लोकप्रियता के अप्रतिम मानक बनने के पीछे की कड़ी तपस्या, अनुशासन, त्याग, एकाग्रता और एकाकी जीवन की अपरिहार्यता को असरदार तरीके से पेश करती है। यह मानव जीवन के मुकम्मल मकसद पर रौशनी डालती है। वह यह कि जिंदगी में मिसाल बनने से कम कुछ भी मत स्वीकारो। बनना है तो प्रतिमान बनो। खुद के लिए। अपनों के लिए। समाज और राष्ट्र के लिए।

गीता-बबीता और उनके रेसलर पिता महावीर फोगाट के विजुअल दस्तावेज के जरिए फिल्म परिवार, समाज और सिस्टम और सपनों की बहुपरतीय व सघन पड़ताल है। फोगाट परिवार ने हिंदुस्तान का आन, बान, शान और मान के लिए क्या और कितना कुछ कुर्बान किया, यह उसकी ऐतिहासिक गाथा बन गई है। चामात्कारिक उपलब्धि हासिल करने के पीछे खुद, अपने, बेगानों, आलोचकों और अजनबियों की समग्र भूमिका को त्रुटिहीन सिनेमाई संवाद के जरिए स्थापित किया गया है। परिजन अगर अपने बच्चों की प्रतिभा को पहचान उन्हें उसी दिशा में आगे बढ़ने को प्रेरित करें तो यह सही है या गलत, यह जाहिर होता है। कहानी में परिजनों के उस अरमान को जायज ठहराने की ठोस वजहें हैं।

In this article