बॉलिवुड वालों की बेरुखी पर इमोशनल हुए गोविंदा

बॉलिवुड के हीरो नंबर वन गोविंदा इन दिनों अपनी रिलीज के लिए तैयार फिल्म ‘आ गया हीरो’ के प्रमोशन में जी जान से जुट गए हैं। अपने जन्मदिन...

237 0
237 0

बॉलिवुड के हीरो नंबर वन गोविंदा इन दिनों अपनी रिलीज के लिए तैयार फिल्म ‘आ गया हीरो’ के प्रमोशन में जी जान से जुट गए हैं। अपने जन्मदिन के मौके पर नवभारतटाइम्स डॉट कॉम से हुई बातचीत में गोविंदा ने अपनी निजी जीवन और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए। बातचीत के दौरान इमोशनल हुए गोविंदा बताते हैं कि उनकी दो बेटियां थीं लेकिन पहली बेटी का निधन 4 महीने की उम्र में हो गया था। उस समय अपने काम में गोविंदा इतने व्यस्त हो गए थे कि बिटिया के साथ ज्यादा वक्त भी नहीं बिता पाए।

अब तक अपने परिवार के 11 सदस्यों को खो चुके गोविंदा गमगीन हो गए और अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहते हैं, ‘अपने परिवार में अब तक 11 सदस्यों को खो चुका हूं। मेरी 4 महीने की प्रीमैच्योर बेटी के निधन के बाद माता-पिता, परिवार के दो भाई, दीदी और जीजा के जाने के बाद बच्चों को मैंने ही बड़ा किया। परिवार की जिम्मेदारी बढ़ने लगी तो मैंने अपना काम भी खूब बढ़ा लिया, जिम्मेदारी उठाने के लिए खुद को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने लगा।’

निर्देशक-निर्माता करन जौहर का नाम लेकर शिकायती लहजे में गोविंदा कहते हैं ‘करन ने मुझे कभी भी अपने शो ‘कॉफी विद करन’ में नही बुलाया, बाकी सभी लोगों को वह कई बार बुला चुके हैं। यह मेरा मुश्किल वक्त है, इसमें किसी और का दोष भी नहीं, कोई मदद भी करना चाहे तो किसी न किसी वजह से कोइ अड़ंगा लग ही जाता है। मैं इसे अपना भाग्य समझ रहा हूं। एक समय था जब अमिताभ बच्चन भी इसी तरह के कठिन दौर से गुजर चुके हैं, आज मेरी हालत बिलकुल वैसी ही है।’

गोविंदा बताते हैं, ‘बॉलिवुड में सबका अपना-अपना कैम्प है, आप किसी भी अवॉर्ड समारोह में जाकर देखिये अवॉर्ड लेने और देने वालों का एक जैसा ग्रुप होता है। इस ग्रुप में एक व्यक्ति अवॉर्ड दे रहा है तो दूसरा ले रहा है, वहीं तीसरा ताली बजा रहा होता है, और चौथा भाषण दे रहा होता है। लोग अपने कैम्प के खास लोगों को ही प्रमोट करते हैं। मुझे बड़े-बड़े निर्देशक, निर्माता और बैनर के साथ काम करने का मौका नही मिला। लोग मुझे नही बुलाते थे तो पहले मुझे बहुत बुरा लगता था अब तो आदत सी हो गई है। बॉलिवुड में दोस्ती निभाना मुश्किल काम है।’

In this article