जरूरी खबर: पासपोर्ट के नियम हुए और आसान, अब परेशानी नहीं

केंद्र सरकार ने पासपोर्ट के नियमों को और लचीला बना दिया है। इसके तहत अब आवेदन करने वालों को को किसी भी डॉक्युमेंट को नोटरी या न्यायिक मजिस्ट्रेट...

By
300 0

get link केंद्र सरकार ने पासपोर्ट के नियमों को और लचीला बना दिया है। इसके तहत अब आवेदन करने वालों को को किसी भी डॉक्युमेंट को नोटरी या न्यायिक मजिस्ट्रेट के सत्यापित रूप में देने की जरूरत नहीं होगी। सादे कागज पर डॉक्युमेंट प्रिंट करके देना मान्य होगा। साधु-संन्यासियों को माता-पिता के नाम की जगह आध्यात्मिक गुरू का नाम लिखने की छूट दी गई है। इतना ही नहीं बर्थ सर्टिफिकेट के तौर पर कई और डॉक्युमेंट देने की छूट भी दी गई है। बता दें कि विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने गुरुवार को नए पासपोर्ट नियमों को जारी किया।

الخيارات الثنائية إشارات لمسة واحدة

السوق السعودي للاسهم المباشر विदेश मंत्रालय ने महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की एक समिति की सिफारिशों और दूसरे वर्गों से विचार-विमर्श के आधार पर नए नियम बनाए हैं। बता दें कि अब जन्मतिथि के लिए आधार एवं ई-आधार कार्ड, भारतीय जीवन बीमा निगम या अन्य कंपनियों के पॉलिसी बॉण्ड या बीमा दस्तावेज को मान्य दस्तावेज का दर्जा दिया गया है। अब पासपोर्ट में लोगों को अपने माता और पिता दोनों के नाम की जगह किसी एक का ही नाम लिखना होगा।

سوق ابوظبي المالي اسعار الاسهم

follow पासपोर्ट के आवेदन में अनुलग्नकों की संख्या 15 से घटा कर नौ कर दी गई है। सभी अनुलग्नकों को अब नोटरी/न्यायिक मजिस्ट्रेट के शपथपत्र की बजाय एक सादे कागज पर लिख कर या प्रिंट करके देना होगा। शादी-शुदा लोगों को मैरिज सर्टिफिकेट नहीं देना होगा। तलाकशुदा लोगों को अपने जीवनसाथी का नाम देना जरूरी नहीं रहेगा। अनाथ बच्चों की जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में अगर मेट्रिकुलेशन प्रमाणपत्र या अदालत का प्रमाणपत्र नहीं है तो अनाथालय के प्रमुख द्वारा उनके आधिकारिक लेटरहैड पर लिख कर देना भी प्रमाण माना जाना जाएगा।

source link
In this article