घर में कैश रखने और कैश लेनदेन की ऊपरी सीमा तय कर सकती है सरकार!

कालेधन पर लगाम लगाने के लिए सरकार एक और बड़ा फैसला कर सकती है. इसके तहत घर में कैश रखने और कैश लेनदेन की सीमा तय हो सकती...

205 0

click here कालेधन पर लगाम लगाने के लिए सरकार एक और बड़ा फैसला कर सकती है. इसके तहत घर में कैश रखने और कैश लेनदेन की सीमा तय हो सकती है.

خيار ثنائي الروبوت الإختراق

http://investingtips360.com/?klaystrofobiya=%D9%83%D9%8A%D9%81-%D8%A7%D8%B4%D8%AA%D8%B1%D9%8A-%D8%A7%D8%B3%D9%87%D9%85-%D8%A8%D8%A7%D9%84%D8%A8%D9%86%D9%83-%D8%A7%D9%84%D8%B1%D8%A7%D8%AC%D8%AD%D9%8A&31a=74 लेनदेन में कैश के कम इस्तेमाल को लेकर वित्त मंत्रालय कई विकल्पों पर विचार कर रहा है, जिसमें सरकार घर में कैश रखने की सीमा तय कर सकती है.

تداول اسهم السوق السعودي

go site इस संभावित फैसले के पीछे नोटबंदी के बाद कालेधन पर दनादन छापेमारी में बरामद हो रही भारी भरकम नकदी है. ऐसा होने पर कोई भी व्यक्ति एक निश्चित सीमा से अधिक धनराशि कैश में नहीं रख पाएगा. बताया जाता है कि वित्त मंत्रालय इस संबंध में कई विकल्पों पर विचार कर रहा है.

http://woldswaylavender.co.uk/?antaliiste=%D8%A7%D9%84%D8%B3%D9%88%D9%82-%D8%A7%D9%84%D8%B3%D8%B9%D9%88%D8%AF%D9%8A%D8%A9-%D9%84%D9%84%D8%A7%D8%B3%D9%87%D9%85&bcf=c0

http://revesbyestate.co.uk/?pjatachok=%D9%88%D8%B3%D8%B7%D8%A7%D8%A1-%D8%A7%D9%84%D8%AE%D9%8A%D8%A7%D8%B1%D8%A7%D8%AA-%D8%A7%D9%84%D8%AB%D9%86%D8%A7%D8%A6%D9%8A%D8%A9-%D8%BA%D9%8A%D8%B1-%D9%85%D9%86%D8%B8%D9%85&64a=47 मोदी सरकार ने काले धन पर जो एसआईटी बनाई थी उसने सुप्रीम कोर्ट में 14 जुलाई को दाखिल अपनी 5वीं रिपोर्ट में सिफारिश की थी कि घर में कैश रखने की सीमा 15 लाख तय की जाए. 3 लाख से ज्यादा के कैश की लेनदेन पर रोक लगाई जाए. इसी सिफारिश पर सरकार विचार कर रही है.

http://wilsonrelocation.com/?q=%D8%A7%D9%81%D8%B6%D9%84-%D8%B4%D8%B1%D9%83%D8%A9-%D9%84%D9%88%D8%B1%D8%B5%D9%87-%D9%81%D9%88%D8%B1%D9%8A%D9%83%D8%B3 افضل شركة لورصه فوريكس

http://asect.org.uk/?ilyminaciya=%D8%AA%D9%88%D8%B5%D9%8A%D8%A7%D8%AA-%D8%A7%D9%84%D8%A7%D8%B3%D9%87%D9%85-%D8%A7%D9%84%D8%B3%D8%A8%D8%AA-%D8%B1%D9%85%D8%B6%D8%A7%D9%86-1433&cfb=3d अगर सरकार इस सिफारिश को मंजूर करती है तो आने वाले दिनों में उन लोगों की परेशानी बढ़ सकती है, जो ज्यादातर लेनदेन नगदी में करते हैं.

go
In this article